गुरुवार, 30 नवंबर 2017

हमसफ़र : लघुकथा

सुबह पाँच बजे
“श्याम, बेटा उठ ना, गुनगुना पानी और त्रिफला चूर्ण दे-दे मुझे!”
“ऊँम्म...अभी देता हूँ पिता जी!” 
“अरे बेटा, मेरी चाय में थोड़ी चीनी और डाल दे, फीकी लगती है!”
“पिता जी, चाय में पहले ही इतनी चीनी है!”
“अच्छा-अच्छा, नाराज़ क्यों होता है...अ...सुन वो अखबार बाहर आ गया हो तो लेता आ...साथ में चश्मा भी देता जा!”
“जी!” 

9 बजे
“बेटा, ऑफिस जा रहा है क्या! अच्छा सुन बाथरूम में गीजर चालू करता जा। भोला के आते ही मैं नहाने चला जाऊँगा वरना घूमने जाने में देर हो जाती है। और हाँ वो होम्योपैथ दवा जो घुटनों के लिए थी, वह भी शाम को आते वक्त लेते आना।”
“जी...लेता आऊँगा...अब मैं चलूँ?”
“हाँ-हाँ...जा। ब्रश में टूथपेस्ट लगा दिया है ना...!”
“अरे हाँ, पिता जी सब रख दिया है, पूजा के लिए आपकी आसनी, रामायण, लोटे में जल, गीजर चालू कर दिया है, तौलिया और कपड़े, ब्रश में टूथपेस्ट, मेज पर नाश्ता। बस आप भोला से माँगकर समय पर खा जरुर लेना। अब मैं निकलता हूँ!”
“अरे बेटा, एक काम और करता जा। एक नया जनेऊ भी खोल कर रखते जाना। जब से प्रोस्टेट की समस्या हुई है, कान पर चढ़ाने का समय ही नहीं रहता..!”
“ओह्हो पिता जी! अब जनेऊ ढूंढने में बस निकल जाएगी। आप भोला से कह दीजिएगा वह निकाल देगा।”

ऑफिस में
“श्यामलाल जी, आज ये फाइलें निपटानी हैं।”
“जी!”
“आज थोड़ा देर से घर चले जाइएगा। वैसे भी आपको तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा। घर में पत्नी और बाल-बच्चे होते तो बात और थी। भाई, बेटा हो तो आप जैसा। अच्छा किया जो दूसरी शादी नहीं की। सब झंझटों से मुक्त। एक हम हैं...पहले ऑफिस की ड्यूटी बजाओ और फिर घर में पत्नी और बच्चों की।”
“जी...लेकिन पिता जी!”
“अरे हाँ...अब कैसी तबियत है उनकी? कोई काम वाला रख लो भाई उनके लिए। आपको भी आराम रहेगा।”
“जी रखा है...लेकिन वह केवल दिन में ही रहता है। और पिता जी किसी बाहर वाले के हाथ का खाना नहीं खाते। इसलिए..!”
“अरे श्यामलाल जी, फिर भी एक बूढ़े आदमी का काम ही कितना होता है।”
“जी अब वह तो मैं ही जानता हूँ।”

शाम सात बजे
“अरे बेटा दवा लाए क्या!”
“जी!”
“अच्छा! आधा कप पानी में पाँच बूँद अभी दे-दे!”
“...हुफ्फ्फ़...लाता हूँ...आsssह...!”
“क्या हुआ!”
“कुछ नहीं पिता जी। घुटनों में थोड़ा दर्द है!”
“ओssह!..तेरा भी तो उनचासवाँ लग गया है, और मैं हूँ कि अभी भी तुझे उन्नीस का समझ रहा हूँ। तू बैठ यहाँ। इसमें से पाँच बूँद तुझे भी देता हूँ!”
“इसकी क्या जरूरत है पिता जी!...मैं खुद ले लूँगा!”
“जरूरत है बेटा...और हाँ कल भोला से बोल देना कि दोनों समय का खाना वही बना दिया करे!”

सोमवार, 6 नवंबर 2017

खूबसूरत : लघुकथा

रात की पाली आरम्भ हो चुकी है। स्टाफ़ के नाम पर दो वार्ड बॉय दिख रहे हैं। रात की नीरवता को चीरते यंत्रों की पीप-पीप और इक्का-दुक्का मरीजों की कराहों ने वातावरण बोझिल बना दिया है। नींद कोसों दूर है। तभी सामने वाले मरीज को इंजेक्शन लगाने के लिए एक नर्स मरुस्थल में हरियाली सी प्रकट हुई।
“चलो कुछ तो देखने लायक मिला।” मन ने सांत्वना दी। लेकिन जैसे ही उस शुभ्र वस्त्र धारिणी का सपाट पत्थर सा साँवला चेहरा दिखा तो अचानक उगी हरियाली कैक्टस में तब्दील हो गई।
“उम्ह...इससे तो भली वह सुबह वाली मोटी थी!” मेरे टूटे मन ने मुँह बिचकाया।
मेरे पेट के टाँकों का दर्द तो कम था किन्तु पेट फूलने लगा। मैंने भतीजे से दवा के लिए कहलवाया। दो से तीन बार हो गया किन्तु नर्स, “अभी आते हैं..” कहकर अभी तक नहीं आई। सलाह भेजी कि उठकर बैठें, थोड़ा चलें-फिरें।
बाजू वाले बिस्तर पर एक लड़की अनमनी सी होने लगी। उसकी माँ ने जाकर नर्स से कुछ कहा और वापस आ गई।
“क्या हुआ...नर्स आ नहीं रही क्या?” मैंने उसकी माँ से पूछा।
“आएँगी अभी बोला है...किसी को इंजेक्शन लगा रही हैं।” उसने जवाब दिया।
“हुँह, न जाने ये नर्सें अपने आपको क्वीन विक्टोरिया क्यों समझती हैं!” मैं बिफरा।
“नहीं चाचू...वह लाइन से दूसरे मरीजों को देखती हुई इधर ही आ रही हैं।” भतीजे के इस कथन पर मैंने उसे घूरा जो पास में रखी बेंच पर पसर चुका था।
मैं मन ही मन नर्स के चेहरे में फिर से उलझ गया।
“इस सरकारी अस्पताल में कुछ नहीं तो कम से कम नर्सें तो खूबसूरत होनी ही चाहिए...बेचारे उन मरीजों का क्या होता होगा जो लम्बे समय तक यहाँ पड़े रहते हैं!”
पेट में उथल-पुथल बढ़ गई। मैंने भतीजे को आवाज दी जो खर्राटों की गिरफ़्त में था।
“आँ...हाँ चाचू...!” दो-तीन बार पुकारने पर वह कसमसाते हुए उठा। मैंने उससे शौचालय ले चलने को कहा।
लघुशंका से निवृत होते-होते दो तीन डकारें आयीं। वार्ड में ही एक दो चक्कर लगाने के बाद मैं बिस्तर पर आ गया। अब पेट हल्का लग रहा था और मैं मंद-मंद नींद के आगोश में विचरने लगा।
सुबह आँखें खुलीं तो नर्स बाजू वाली लड़की के बेड की ओर आ रही थी।
“गुड मॉर्निंग सिस्टर!” उसके आते ही उस लड़की ने अभिवादन किया।
“...ऊँ...हाँ...!” इस अप्रत्याशित अभिवादन से वह पहले तो चौंकी फिर उसने भी जवाब दिया, “...गुड मॉर्निंग!”
ऐसा करते हुए उसके होठों की सीपी खुल गईं जिससे भीतर से मोती झाँकने लगे। अब उसका चेहरा ख़ूबसूरत लगने लगा था।
“कैसी तबियत है सर....!” अब वह मुझसे मुखातिब थी।
अचानक मेरे मुँह से निकल पड़ा, “खूबसूरत...!”
उसने तिरछी निगाहों से मुझे देखा, मैं अपनी झेंप मिटाने के लिए कुछ और कहता इसके पहले ही वह फिर मुस्कुरा दी।
                                               
                                           Photo by Joopa Doops from Google Images

सोमवार, 24 जुलाई 2017

उत्तर : लघुकथा

“पापा, आज तो हम ज़ू चलेंगे ना?”
“-------------“
“बोलो ना पापा!” 
“आँ...हुम्म...चलेंगे...”
“लेकिन कब पापा?”
आज इतवार था। आकाश आलमारी के कागजों को बिस्तर पर फैलाए उनकी कतरब्योंत में लगा था। रोहन थोड़ी देर खड़ा उत्तर की प्रतीक्षा करता रहा फिर हमेशा की तरह बालकनी में जाकर सड़क पर आते-जाते लोगों को देखने लगा।
कागजों को उलट-पलट करने में कुछ पुराने कागज़ आकाश के हाथ लगे। वह उन्हें देखने लगा। ये कागज़ अस्पताल के थे। जब निशा की डिलिवरी हुई थी। आकाश की स्मृतियाँ उसे चार साल पहले ले गयीं।
निशा की प्रीमेच्योर डिलिवरी थी। बड़ी मुश्किल से रोहन की जान बची थी। इस बात को लेकर वह सालों रोहन की एक आवाज़ पर सोते से जाग जाता था। फिर उसको सीने से लगाए कमरे में तब तक टहलता रहता जब तक कि वह दोबारा न सो जाय।
लेकिन आजकल?...अचानक आकाश स्मृतियों के बादल से बाहर आ गया। उसके अंतर की नमी उसकी आँखों से झलक रही है।
“निशा रोहन कहाँ है?’
“बालकनी में होगा...और कहाँ जाएगा?”
“रोहन!....रोहन!” आकाश आवाज़ देता हुआ बालकनी पर पहुँचा।
रोहन ग्रिल की जाली पर पैर की उँगलियों के बल चढ़ा सड़क पर चल रहे मदारी के खेल को बड़ी तल्लीनता से देख रहा था। जाली सँकरी होने से बार-बार उसका पैर फिसला जा रहा था। आकाश ने बढ़कर उसे गोद में उठा लिया।
सड़क से मदारी की आवाज़ गूँजी तो आकाश भी उधर देखने लगा। बीच में कनखियों से रोहन की ओर देखा। उसने पाया कि रोहन मदारी के खेल को देखने के बजाय थोड़ी दूर खड़े व्यक्ति को देख रहा है। जो अपने कंधे पर एक बच्चे को बैठाए है। बच्चा ताली बजा-बजा कर किलकारी मार रहा है।
आकाश ने रोहन को उचकाकर कंधे पर बैठा लिया और, “ज़ूsssssम!” की आवाज़ निकालता हुआ बालकनी से सीढ़ियाँ उतरने लगा।
“पापा, हम मदारी का खेल देखने जा रहे हैं क्या?”
“हाँ बेटा...”
“येssssss!”
बालकनी में हतप्रभ सी खड़ी निशा, आकाश के अचानक परिवर्तित रूप को समझने की कोशिश कर रही थी।

बुधवार, 26 अप्रैल 2017

शोर : लघुकथा

शोर से नमिता की नींद टूट गयी। नमिता ने मोबाइल उठा कर देखा। डेढ़ बज रहा था।
सामने वाली बिल्डिंग में सुदूर देश-प्रदेश से आए कुछ लड़के रहते हैं। कुछ पढ़ने वाले हैं और कुछ नौकरीपेशा। जोर की ऊँची आवाज़ से यह जाहिर था कि यह शोर उन्हीं का है।

“ओफ्फ्फ़ ओssह!...लोग सही कहते हैं कि ये निरे जंगली हैं...अपनी मौज-मस्ती में यह भी भूल जाते हैं कि इतनी रात गए दिनभर के थके-हारे कुछ लोग सो भी रहे होंगे...” भुनभुनाते हुए नमिता ने करवट बदली।

“क्या हुआ निम्मो...नींद नहीं आ रही क्या?” आकाश ने उनींदी आवाज़ में पूछा।

“इस शोर में भला कोई कैसे सो सकता है?”

“ऐसा करो...कान में रुई लगाओ और सो जाओ।” नमिता ने अपना तकिया उठाकर बगल में सोए आकाश पर दे मारा। फिर उसी तकिए को कान पर रखकर सोने की कोशिश करने लगी।

शोर और तेज हो गया था। वह उठकर बालकनी में आ गई। उसने लाइट जलाई और नीचे देखने लगी।

वहाँ एक टैक्सी खड़ी थी जिसमें लड़के बैठ रहे थे। दो लड़के मोटरसाइकिल पर थे। वे ही जोर-जोर से कुछ बोल रहे थे। पर वह नमिता को बिलकुल समझ नहीं आ रहा था, क्योंकि उनकी भाषा ही अलग थी। बालकनी की लाइट जलने पर उन्होंने एक उड़ती नजर नमिता की ओर डाली। और फिर अगले मिनट भर में टैक्सी तेजी से चल पड़ी। पीछे-पीछे मोटरसाइकिल भी। 

गली में फिर रात की नीरवता पसर गई।
नमिता ने खुली हवा में चैन की साँस ली और आकर बिस्तर पर लेट गई। 

करवट बदलते हुए उसे याद आया कि आकाश ने कहा था कि किसी ‘अच्छी-सी कॉलनी’ में मकान ले लेते हैं, पर उसने ही तो कहा था कि वहाँ हम इनसानों की आवाज़ सुनने को तरस जायेंगे। पर यह भी कहाँ पता था कि यहाँ इन जंगलियों से पाला पड़ेगा।

सुबह उसकी नींद फिर हल्के शोर से ही खुली। उसने पर्दे की ओट से झाँका। दो लड़के आकाश से मुख़ातिब थे। वे टूटी-फूटी हिंदी में बोल रहे थे, “थोड़ा पैसा और चाहिए...आपका हेल्प मिल जाता तो हम...।”

“हाँ-हाँ...मैं अभी आया...” कहते हुए आकाश कमरे में आया।

“क्या हुआ...ये लड़के यहाँ...?”

आकाश ने टी-शर्ट डाली और गाड़ी की चाभी लेकर कमरे से बाहर निकल गया। पीछे-पीछे नमिता भी कमरे से बाहर आ गई।
“आकाश...ये तुम सुबह-सुबह कहाँ जा रहे हो?”

“निम्मो...सामने वाले खन्ना जी को रात हार्ट अटैक आया था...ये लड़के उनको हॉस्पिटल ले गए थे, जहाँ उनकी बाईपास सर्जरी हो रही है...इनके सारे पैसे खत्म हो गए हैं...बाक़ी आकर बताता हूँ!” 
आकाश एक साँस में बोलते हुए खटा-खट सीढ़ियाँ उतरने लगा। दोनों लड़के भी उसके आगे सीढि़याँ उतर रहे थे।

तभी उनमें से एक सीढ़ियाँ उतरते हुए ठिठका और पलटकर नमिता को देखते हुए बोला, “सॉरी...वो रात में शोर का आपको डिस्टर्ब हुआ!”

16/04/2017
(चित्र गूगल से साभार)

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

डर के साये में : लघुकथा

आये दिन महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की घटनाओं से निकिता का मन उद्विग्न हो उठा था।
"एक लड़की का जीवन काँटों के बीच से गुज़रने जैसा है...ना जाने कब कौन सा काँटा उसकी अस्मिता को चीर कर तार-तार कर दे...उफ्फ्फ़! ये पुरुष!” दांत पीसते हुए निकिता ने मुट्ठियाँ भींच लीं।
विचारों के द्वन्द में वह ऑटो में आ बैठी। ऑटो चल पड़ा। अचानक उसका ध्यान गया कि वह दो पुरुषों के बीच फँसी बैठी है। वह असहज हो आगे खिसक गयी। उसे अपनी बगलों में उँगलियों का एहसास होने लगा। वह सिहर उठी। उसने दोनों तरफ बारी-बारी से देखा। उन दोनों पुरुषों की उँगलियाँ उनके मोबाइल पर थीं। यह देख निकिता को कुछ तसल्ली हुई।
उसका जिम आ गया। उसने उतर कर ऑटो वाले को देखा, फिर बड़ी सतर्कता से नोट का कोना इस तरह से पकड़ा कि कहीं ऑटो वाले का हाथ उसके हाथ से ना छू जाए। ऑटो वाला जब तक नोट पकड़ता निकिता ने नोट छोड़ दिया। नोट फड़फड़ाता हुआ सड़क पर आ गिरा।
“आउच!” निकिता के मुँह से निकला।
“आप जाइए, मैं उठा लूँगा।”
निकिता जल्दी-जल्दी लिफ्ट की ओर बढ़ी। लिफ्ट का दरवाजा बंद हो रहा था। उसने लपक कर उसका बटन दबा दिया। दरवाज़ा खुल गया। निकिता लिफ्ट में दाखिल हो गयी। उसमें एक दढ़ियल सा आदमी पहले से था। उसे देख निकिता की साँस चढ़ गयी। लिफ्ट चल चुकी थी।
वह वापस तो जा नहीं सकती थी। मन ही मन अपने को कोसने लगी, “मुझे सीढ़ियों से जाना चाहिए था, अब कहीं ये....हुफ्फ्फ़!” निकिता ने एक हाथ से अपने बैग को सीने से चिपका लिया। और दूसरे हाथ के नाख़ूनों को नोचने के अंदाज़ में कर सतर्क हो गई।
वह आदमी लिफ्ट में लगे किसी विज्ञापन को देखने में मशगूल था। निकिता का फ्लोर आ गया। वह तेजी से बाहर भागी। एक गहरी साँस भरते हुए उसने जिम में प्रवेश किया।
निकिता बिना व्यायाम के ही पसीने से सराबोर हो चुकी थी। वह साईकिलिंग करने लगी।
लगभग पाँच मिनट बीते होंगे। जिम के ट्रेनर ने सूचना दी, “आज एक प्रतियोगिता होने वाली है...जो लोग भाग लेना चाहते हैं छत पर चलें...मैम आप लोग भी चलिए।” ट्रेनर ने निकिता के साथ-साथ अन्य लड़कियों से भी आग्रह किया।
छत पर कुल पंद्रह प्रतियोगी थे। जिनमें चार लड़कियाँ थीं। प्रतियोगिता का एक चक्र पूरा होने के बाद अंतराल हुआ। तो कुछ लोग नीचे चले गए। उसी समय अचानक बिजली चली गयी। छत पर घुप्प अँधेरा छा गया।
तभी निकिता को ध्यान आया कि तीनों लड़कियाँ भी नीचे चली गयी थीं।
निकिता थर्रा उठी, “मूर्ख हूँ मैं भी! मुझे भी नीचे चले जाना चाहिए था...क्या ज़रूरत थी धाकड़ बनने की! आज तो...”
अभी वह यह सब सोच ही रही थी कि एक आवाज़ आयी, “जो जहाँ है, वहीं खड़ा रहे...मैं मोबाईल की लाइट जलाता हूँ।”
“हाँ छत पर बहुत सामान बिखरा है...।” यह दूसरी आवाज़ थी। और इसके साथ ही मोबाईल की मद्दिम रोशनी जल गयी...
 (26/03/2017)
                                                                  (चित्र गूगल से साभार)

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

अपने-अपने सुख : लघुकथा

अलसुबह गुमटी पर चाय-बिस्कुट खाते महेश जी को उनके दो मित्रों ने देख लिया।
“भाई, ये महेश सुबह-सुबह गुमटी पर चाय पी रहा है, आखिर मामला क्या है?” एक मित्र ने कहा।
“अरे यही नहीं एक दिन बंदे को सट्टी से सत्तू खरीदते हुए भी देखा था, पूछने पर बोला, भाई रिटायर्मेंट के मजे ले रहा हूँ।” दूसरे मित्र बोले।
“सही कहा...मैं भी देख रहा हूँ कि जब से वह रिटायर हुआ है, सुबह पोते-पोतियों को स्कूल छोड़ने की ड्यूटी बजा रहा है।”
“और दिखाता ऐसे है जैसे कहीं की गवर्नरी
मिल गई हो।”
“हुँह...बेटे-बहुओं के राज में कैसी गवर्नरी?”
“चलो चलकर हाल-चाल लेते हैं।” दोनों मित्र गुमटी की ओर बढ़ चले।
“अरे, तुम दोनों इतनी सुबह यहाँ कैसे?” महेश जी ने चाय की चुस्की लेते हुए पूछा।
“लो कर लो बात...हम भी यही पूछना चाहते हैं कि आजकल यहाँ चाय क्यों...?”
“ओहोहोहो... भई गुमटी की चाय की लत तो मुझे कॉलेज के ज़माने से थी...नौकरी की भाग-दौड़ में न जाने कब छूट गई...सुबह सैर-सपाटे पर निकलता हूँ तो पुराने दिन दोबारा जी लेता हूँ...” महेश जी बोले।
“यार, हमसे क्या छिपाना...आदमी रिटायरर्ड हो और घर में बेटे-बहू का राज हो तो चाय गुमटी पर ही पीनी पड़ती है।”
“और ऐसे में सत्तू केवल मज़े लेने के लिए कोई नहीं खाता।” 

महेश जी गंभीर मुद्रा में आ गए और बारी-बारी से दोनों का मुँह ताकने लगे। फिर अचानक ठट्ठा मारकर हँस पड़े। दोनों मित्र एक-दूसरे का चेहरा ताकने लगे, “भाई...भले ही तुम हमारी बात को हँसी में उड़ा लो लेकिन तुम्हारी पीड़ा हम भली-भांति समझ रहे हैं।”

“हाँ-हाँ...भाई चोर-चोर मौसरे भाई! आप लोग नहीं समझोगे मेरी पीड़ा तो कौन समझेगा।” ऐसा कहते हुए महेश जी की हँसी व्‍यंग्‍यात्‍मक हो गई। तभी ट्रैक सूट में उनकी बहू वहाँ आ गयी।

“डैडी जी, आज घर नहीं चलना क्या?”

“हाँ-हाँ...चलना है।” कहते हुए महेश जी मुस्कुराए। और बोले, “आज हमारे साथ ये दोनों भी चलेंगे...इन्‍हें तुम्‍हारे हाथ की चाय भी पीनी है और सत्तू भी खाना है।“

01/04/2017

                                                                 (चित्र गूगल से साभार)


शनिवार, 4 मार्च 2017

काँटों में गुलाब : लघुकथा

गुलाब के पौधे पर कलियों के बीच एक फूल को झूमते देख मार्था के गुलाबी होठ लरज़ उठे। वह उसे बरबस निहारने लगी। तभी एक लड़का जो मार्था के यहाँ पेइंगगेस्ट था वहाँ आ पहुँचा।
“मैडम, क्या मैं यह गुलाब ले सकता हूँ?” मार्था अचकचा गई। उसने लड़के को ऊपर से नीचे तक देखा। फिर शरारत भरे अंदाज़ में पूछा, ‘‘गर्लफ़्रेण्ड के लिए?”
फिर थोड़ा ठहर कर बोली, “जा ले ले, और देखना कोई काँटा न साथ चला जाय।”
“जी, शुक्रिया!” लड़के ने फूल लेकर अपनी साइकिल के हेंडल में खोंसा और पैडल मारते हुए आगे बढ़ गया। मार्था स्नेहिल निगाहों से उसे जाता हुआ देखती रही।
“आंटी, आपने उसे गुलाब क्यों ले जाने दिया? कितने दिनों से आप उसके खिलने का इंतज़ार कर रही थीं?” यह दीपा थी, मार्था की दूसरी पेइंगगेस्ट।
“ गर्लफ़्रेण्ड के लिए ले जा रहा है ना।”
“तो खरीद कर ले जाता ना, कंजूस कहीं का!”
“नहीं दीपा, लगता है...यह भी पीटर की तरह...हालात से लड़ रहा है,” कहते हुए मार्था ने एक गहरी साँस छोड़ी।
“पीटर?” दीपा की निगाहों ने प्रश्न उछाला।
“मेरा बॉयफ़्रेण्ड। एक दिन जब उसने मेरे सामने शादी का प्रस्ताव रखा तो...”
** “मार्था, अभी मेरी ज़िंदगी में सिर्फ़ काँटे हैं...इस टहनी की तरह...संभव है उसमें कभी फूल न भी आएँ। क्या तुम मुझसे शादी करना चाहोगी?”
“पीटर, मैं तुमसे बेहद प्यार करती हूँ...पर क्या हम थोड़ा और इंतज़ार नहीं कर सकते, तुम्हारे सेटल होने तक?”
**
“दीपा यह गुलाब का पौधा वही टहनी है जिसे उस दिन पीटर ने यहीं डाल दिया था, लेकिन...”
“लेकिन क्या आंटी?”
“लेकिन उस दिन के बाद से पीटर मुझे कभी नहीं मिला। मैंने उसका बहुत इंतज़ार किया। फिर हेनरी से मेरी शादी हो गई। उसने मेरी ज़िंदगी को गुलाबों से भर दिया। लेकिन उनके बीच जो काँटे थे उन्हें मैं पहचान न सकी। शादी के कुछ साल बाद ही उसने मुझे डिवोर्स देकर एक बिजनेसमेन की बेटी से शादी रचा ली।”
“ओह...वेरी सेड, आंटी...” थोड़ा सोचकर दीपा बोली, “फिर तो उस लड़के को भी अपनी गर्लफ़्रेण्ड को गुलाब नहीं देना चाहिए?”
“दीपा, ये प्रपोज़ल का समय भी ना बहुत नाज़ुक होता है। एक हल्की सी धमक भी दिल को चकनाचूर कर देती है। मैंने पीटर से जो कहा वह ग़लत नहीं था, बस उसे कहने का वक़्त ग़लत था।”
“ह्म्म्म...लेकिन यह लड़का अगर संघर्ष में नाकामयाब रहा तो फिर तो उसकी गर्लफ़्रेण्ड के साथ धोखा हुआ ना?”
“ऐसा नहीं होगा दीपा, हमारा समय और था...आज की पीढ़ी में जूझने का जज़्बा है। अब तो लड़का-लड़की दोनों मिलकर अपने भावी जीवन की योजनाएँ बनाते हैं।”
“ओहो...थैंक यू आंटी!” दीपा थोड़ा सोचने लगी, फिर बोली, ”....अच्छा आंटी मुझे भी जाना है।”
“अरे आज तो छुट्टी थी...फिर तुझे कहाँ जाना है?”
“आंटी...आज प्रपोज़ल एक्सेप्ट करने का दिन है!” खिलखिलाती हुई दीपा भी उसी ओर चल पड़ी जिस ओर वह लड़का गया था।