सोमवार, 24 जुलाई 2017

उत्तर : लघुकथा

“पापा, आज तो हम ज़ू चलेंगे ना?”
“-------------“
“बोलो ना पापा!” 
“आँ...हुम्म...चलेंगे...”
“लेकिन कब पापा?”
आज इतवार था। आकाश आलमारी के कागजों को बिस्तर पर फैलाए उनकी कतरब्योंत में लगा था। रोहन थोड़ी देर खड़ा उत्तर की प्रतीक्षा करता रहा फिर हमेशा की तरह बालकनी में जाकर सड़क पर आते-जाते लोगों को देखने लगा।
कागजों को उलट-पलट करने में कुछ पुराने कागज़ आकाश के हाथ लगे। वह उन्हें देखने लगा। ये कागज़ अस्पताल के थे। जब निशा की डिलिवरी हुई थी। आकाश की स्मृतियाँ उसे चार साल पहले ले गयीं।
निशा की प्रीमेच्योर डिलिवरी थी। बड़ी मुश्किल से रोहन की जान बची थी। इस बात को लेकर वह सालों रोहन की एक आवाज़ पर सोते से जाग जाता था। फिर उसको सीने से लगाए कमरे में तब तक टहलता रहता जब तक कि वह दोबारा न सो जाय।
लेकिन आजकल?...अचानक आकाश स्मृतियों के बादल से बाहर आ गया। उसके अंतर की नमी उसकी आँखों से झलक रही है।
“निशा रोहन कहाँ है?’
“बालकनी में होगा...और कहाँ जाएगा?”
“रोहन!....रोहन!” आकाश आवाज़ देता हुआ बालकनी पर पहुँचा।
रोहन ग्रिल की जाली पर पैर की उँगलियों के बल चढ़ा सड़क पर चल रहे मदारी के खेल को बड़ी तल्लीनता से देख रहा था। जाली सँकरी होने से बार-बार उसका पैर फिसला जा रहा था। आकाश ने बढ़कर उसे गोद में उठा लिया।
सड़क से मदारी की आवाज़ गूँजी तो आकाश भी उधर देखने लगा। बीच में कनखियों से रोहन की ओर देखा। उसने पाया कि रोहन मदारी के खेल को देखने के बजाय थोड़ी दूर खड़े व्यक्ति को देख रहा है। जो अपने कंधे पर एक बच्चे को बैठाए है। बच्चा ताली बजा-बजा कर किलकारी मार रहा है।
आकाश ने रोहन को उचकाकर कंधे पर बैठा लिया और, “ज़ूsssssम!” की आवाज़ निकालता हुआ बालकनी से सीढ़ियाँ उतरने लगा।
“पापा, हम मदारी का खेल देखने जा रहे हैं क्या?”
“हाँ बेटा...”
“येssssss!”
बालकनी में हतप्रभ सी खड़ी निशा, आकाश के अचानक परिवर्तित रूप को समझने की कोशिश कर रही थी।

3 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " भारत के 14वें राष्ट्रपति बने रामनाथ कोविन्द “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. यदि आप कहानियां भी लिखती है तो आप प्राची डिजिटल पब्लिकेशन द्वारा जल्द ही प्रकाशित होने वाली ई-बुक "पंखुड़ियाँ" (24 लेखक और 24 कहानियाँ) के लिए आमंत्रित है। यह ई-बुक अन्तराष्ट्रीय व राष्ट्रीय दोनों प्लेटफार्म पर ऑनलाईन बिक्री के लिए उपलब्ध कराई जायेगी। इस ई-बुक में आप लेखक की भूमिका के अतिरिक्त इस ई-बुक की आय के हिस्सेदार भी रहेंगे। हमें अपनी अप्रकाशित एवं मौलिक कहानी ई-मेल prachidigital5@gmail.com पर 31 अगस्त तक भेज सकतीं है। नियमों एवं पूरी जानकारी के लिए https://goo.gl/ZnmRkM पर विजिट करें।

    उत्तर देंहटाएं